आंवला ज्यूस रेसिपी | अमला ज्यूस | NUTRITIOUS AMLA JUICE

आंवला ज्यूस रेसिपी | अमला ज्यूस | NUTRITIOUS AMLA JUICE post thumbnail image
Spread the love

आंवला ज्यूस रेसिपी | अमला ज्यूस | AMLA JUICE

आंवला फल (Indian gooseberry/ amla) आइरन और विटामिन सी से भरपूर रस से भरा हुआ प्राकृ्तिक खजाना है। आंवले का ज्यूस ( amla juice )रोजाना लेने से पाचन दुरुस्त, त्वचा में चमक, त्वचा के रोगों में लाभ, बालों की चमक बढाने, बालों को सफेद होने से रोकने के अलावा और भी बहुत सारे फायदे हैं।

 

Awla, Amla Juice
आंवला ज्यूस

 

आंवले का मौसम दिसम्बर से चालू होकर अप्रेल तक रहता है। दिसम्बर से अप्रेल तक तो ताजा आंवला ज्यूस ताजा निकाल कर पी सकते हैं। आंवले के ज्यूस (Amla Juice) को सीजन के बाद प्रयोग करने के लिये आप आंवला ज्यूस को घर में आसानी से निकाल सकते हैं और प्रिजर्व कर सकते हैं। 
आंवला लगभग सभी आयुर्वेदिक दवाओं और टॉनिक में मुख्य सामग्री में से एक है। इस सुपरफूड को अक्सर सोशल मीडिया पर पृथ्वी पर सबसे शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में प्रचारित किया जाता है।

क्या है भारतीय आंवला (आंवला)?

Awla, Amla Juice
आंवला | अमला
 
भारतीय आंवला, जिसे आंवला या अमला के नाम से भी जाना जाता है, एक पेड़ का पौष्टिक फल है जो मुख्य रूप से भारत, मध्य पूर्व और कुछ दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में उगता है। यह फल अपने उच्च विटामिन सी सामग्री के लिए जाना जाता है। 
 
अपने शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट गुणों के कारण, इसका उपयोग हजारों वर्षों से आयुर्वेद में प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए किया जाता है। परंपरागत रूप से, इसका उपयोग सर्दी और खांसी के इलाज, पाचन में सुधार, प्रजनन क्षमता बढ़ाने और बालों के विकास में सुधार करने के लिए किया गया है। 
 

आंवले के ज्यूस के कुछ फायदे:

आंवले का रस खांसी और फ्लू के साथ-साथ मुंह के छालों के इलाज के लिए एक शक्तिशाली घरेलू उपाय के रूप में लिया जा सकता है। रोज दो चम्मच शहद के साथ समान मात्रा में आंवले का रस पीने से सर्दी और खांसी के इलाज में काफी मदद मिलती है। मुंह के छालों से छुटकारा पाने के लिए दिन में दो बार पानी में दो चम्मच मिलाएं और इससे गरारे करें।
 
आंवले के रस का नियमित सेवन कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। एमिनो एसिड और एंटीऑक्सिडेंट दिल के समग्र कामकाज में सहायता करते हैं। यह अस्थमा जैसी सांस की बीमारियों के साथ-साथ मधुमेह को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में भी सहायक है।
डॉ.आशुतोष गौतम, बैद्यनाथ में क्लीनिकल ऑपरेशंस एंड कोऑर्डिनेशन मैनेजर ने कहा कि आंवला की क्षारीय प्रकृति प्रणाली को साफ करने और पाचन तंत्र को मजबूत करने में मदद करती है।

आवला ज्यूस बनाने कि सामग्री: – INGREDIENTS FOR AMLA JUICE

  • आंवला – 1 कि। ग्राम ( 28 – 30)

आवला ज्यूस बनाने कि विधि:

  1. आंवले को छोटे टुकड़े में काट लीजिये, बीज हटा दीजिये। 
  2. आंवले के थोड़े से टुकड़े मिक्सर जार जिसमें मसाला पीसा जाता है, उसमें डालिये और पीसिये, इन टुकड़ों के पेस्ट बन जाने पर थोड़े और टुकड़े जार में डालिये और बिलकुल बारीक होने तक पीस लीजिये।
  3. पहली बार थोड़े ही आंवले बारीक पीस लीजिये, इस पेस्ट को साफ सूती कपड़े में डालिये और दबाकर ज्यूस किसी प्याले में छान लीजिये। आंवला पल्प को अलग प्याले में रख लीजिये।
  4. इसके बाद आंवले के टुकडों के साथ निकाला हुआ आंवला ज्यूस भी मिक्सी में डाल दीजिये और आंवले के टुकडों को पीस लीजिये।
  5. सूखे आंवले के टुकड़े पीसने के बजाय इन्हें थोडा तरल पदार्थ मिला कर आसानी से पीसा जा सकता है।
  6. थोड़ा पहले से निकाला हुआ आंवला ज्यूस मिला देने से यह जल्दी और अच्छी तरह से पिस जायेंगे।
  7. पिसे हुये आंवले और ज्यूस के मिश्रण को कपड़े में डालिये और हाथ से दबाकर सारा ज्यूस निकाल लीजिये, पल्प को पल्प वाले प्याले में रख दीजिये।
  8. सारे आंवले के टुकड़ों के लिये यही तरीका बार बार दुहरा कर ज्यूस निकाल लीजिये। एक किलोग्राम आंवले में लगभग 600 -700 ग्राम तक ज्यूस निकल आता है।
  9. आंवला ज्यूस को किसी कांच या प्लास्टिक के कन्टेनर में भरकर फ्रिज में रख लीजिये। इस आंवला ज्यूस को 1 महिने तक प्रयोग कर सकते हैं।
  10. यदि आपके पास ज्यूसर है, तब आंवले को काट कर डायरेक्ट ज्यूसर में डालकर ज्यूस आसानी से निकाला जा सकता है।

 

आंवला ज्यूस को प्रिजर्व कैसे करें – How to Preserve Amla Juice

आंवला ज्यूस प्रिजर्व करने के लिये 500 ग्राम आंवला ज्यूस को 500 ग्राम कांच की या प्लास्टिक की बोतल में भरें और इसमें 1 छोटी चम्मच सोडियम लेक्टेट (Sodium Lactate) डालकर बोतल को अच्छी तरह से हिला दें ताकि सोडियम लेक्टेट (Sodium Lactate) आंवला ज्यूस में भली भांति मिल जाय।
प्रिजर्व करने के लिये उतनी ही बड़ी बोतल लें जितना ज्यूस आप प्रिजर्व कर रहे है। ज्यूस की मात्रा से अधिक बड़ी बोतल न लें। इस प्रिजर्व की हुई बोतल को आप फ्रिज में रखकर आठ-दस महीने तक प्रयोग कर सकते हैं।
सोडियम लेक्टेट (Sodium Lactate) आपको खाने के कैमीकल बेचने वाली दुकानों पर आराम से मिल जाता है।इसके अलावा आप आंवले ज्यूस को आइस ट्रें में जमाकर आंवला ज्यूस क्यूब भी बना सकते है़।

आंवला ज्यूस को कैसे प्रयोग करें – How to use Amla Juice

जब भी आप आंवला ज्यूस प्रयोग करना चाहें तो दो छोटी चम्मच आंवला ज्यूस या एक आंवला ज्यूस क्यूब को एक कप गरम पानी और 1-2 छोटी चम्मच शहद में मिलाईये।यदि आप शहद न लेना चाहें तो आंवला ज्यूस को काला नमक मिलाकर भी पी सकते हैं।

तुरन्त प्रयोग के लिये आंवला ज्यूस कैसे निकालें – How to use Fresh Amla for Juice

दो आंवले के बीज हटाकर छोटे छोटे टुकडे करें और इसे ग्राइंडर में थोड़ा सा पानी डालकर पेस्ट बना लीजिये।इस पेस्ट को एक कप पानी में मिलाकर छान लीजिये। इस ज्यूस में 1-2 छोटे चम्मच शहद या एक चुटकी काला नमक मिलाकर प्रयोग कर सकते हैं|

 

NUTRITIOUS AMLA JUICE | HEALTHY AMLA JUICE 

 

अगर आपको हमारा ब्लोग किचन तडका पसंद आया हो तो आप हमे सबस्क्राईब करे और कमेंट कर अपनी राय दे…

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post

cucumber-detox-water

ककड़ी के पानी कि रेसिपी | CUCUMBER DETOX WATER RECIPEककड़ी के पानी कि रेसिपी | CUCUMBER DETOX WATER RECIPE

Spread the love ककड़ी का पानी | CUCUMBER DETOX WATER ककड़ी का पानी पीने और पानी का आनंद लेना एक सस्ता, त्वरित और स्वादिष्ट तरीका है। खीरे में विटामिन, एंटीऑक्सिडेंट और अन्य पोषक

बादाम का हलवा | किशमिश और बादाम का हलवा | BADAM KA HALWA | BADAM KA HALWA RECIPE IN HINDIबादाम का हलवा | किशमिश और बादाम का हलवा | BADAM KA HALWA | BADAM KA HALWA RECIPE IN HINDI

Spread the love बादाम का हलवा | BADAM KA HALWA             बादाम हलवा बहुत स्वादिष्ट होता है, बादाम में प्रोटीन ,कैल्शियम, पोटेशियम और मैगनीशियम होता है, इसमें विटामिन E

how-to-make-masala-papad

मसाला पापड़ रेसिपी | MASALA PAPAD RECIPEमसाला पापड़ रेसिपी | MASALA PAPAD RECIPE

Spread the love191Shares मसाला पापड़ रेसिपी | MASALA PAPAD RECIPE मसाला पापड़ एक स्वादिष्ट उत्तर भारतीय स्नैक है जिसे भुने हुए या तले हुए लिज्जत पापड़ के उपयोग से बनाया जाता